Press "Enter" to skip to content

बिहार चुनाव में महज 12 वोटों से जदयू उम्मीदवार ने राजद को हराया, जानें कहां

बिहार में कड़े मुकाबले के बाद आखिरकार नीतीश की नैया पार हो ही गई। 125 सीटों के साथ बिहार में फिर एक बार एनडीए की सरकार बनेगी। बिहार ने एक बार फिर से नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए को जनादेश दिया है, मगर मुकाबला काफी टक्कर का देखने को मिला। बिहार चुनाव में कई ऐसी सीटें रहीं, जहां मुकाबला न सिर्फ दिलचस्प था, बल्कि काफी करीबी रहा। जनता दल यूनाइटेड ने हिलसा विधानसभा सीट से महज 12 वोटों से जीत दर्ज की है।

चुनाव आयोग की वेबसाइट के मुताबिक, जदयू ने हिलसा विधानसभा सीट से राजद को महज 12 वोटों से हराया है। जदयू के कृष्णमुरारी शरण उर्फ प्रेम मुखिया को 61,848 वोट मिले, जबकि राजद उम्मीदवार आत्री मुनि उर्फ शक्ति सिंह यादव को 61,836 वोट मिले। यानी इन दोनों प्रत्याशियों के बीच जीत-हार का फासला सिर्फ 12 वोट का ही रहा। बता दें कि देर रात यह फैसला आया।  बता दें कि राजद ने हिलसा सीट पर धांधली का आरोप लगाया।

हिलसा सीट के पुराने नतीजे
2015 के विधानसभा चुनाव में यहां से राजद के शक्ति सिंह यादव ने लोजपा की दीपिका कुमारी को 26,076 वोटों के अंतर से हरा दिया था। 2010 में यहां से जदयू की उषा सिन्हा जीती थीं। हिलसा विधानसभा सीट बिहार के नालंदा जिले का हिस्सा है। यहां अब तक कुल 14 बार विधानसभा चुनाव हुआ है, जिसमें से इस सीट पर सबसे ज्यादा तीन बार जदयू और कांग्रेस और दो बार जनसंघ के प्रत्याशी विधायक रह चुके हैं।

और कहां-कहां रहा कम वोटों से जीत का अंतर
बरबीघा निर्वाचन क्षेत्र में जदयू के सुदर्शन कुमार ने कांग्रेस के गजानन शाही को महज 113 वोटों से हराया, जबकि भोरे निर्वाचन क्षेत्र में उम्मीदवारों के बीच जीत-हार का फासला मात्र 462 वोटों का रहा। वहीं, डेहरी में राजद के फतेबहादुर ने भाजपा के सत्य नारायण सिंह को  464 वोटों से मात दी। चुनाव परिणाम में एक हजार से कम वोटों के अंतर से जीतने वाले विधानसभा क्षेत्रों में बखरी में 717, रामगढ़ में 189, चकाई में 581, मटिहानी में 333 और कुढ़नी में 712 वोटों के अंतर से जीतने वाले उम्मीदवार ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी को चुनाव मैदान में शिकस्त दी। हिलसा विधानसभा सीट पर जदयू के कृष्ण मुरारी शरण उर्फ प्रेम मुखिया और राजद के अत्रीमुनि उर्फ शक्ति सिंह यादव के बीच सबसे कम मात्र 12 वोटों का अंतर सामने आया। हालांकि राजद के विरोध के कारण आयोग ने देर रात तक अंतिम चुनाव परिणाम इस सीट का जारी नहीं किया। वहीं, बछवाड़ा में 699 और परबत्ता निर्वाचन क्षेत्र में 951 वोटों के अंतर के कारण जीत-हार के अंतिम निर्णय में देरी हुई।

एनडीए ने फिर मारी बाजी
चुनाव आयोग के अनुसार, 243 सीटों में से 243 सीटों पर नतीजों का ऐलान हो चुका है। बिहार विधानसभा की 243 सीटों में से 243 सीटों के प्राप्त परिणामों में प्रदेश में सत्ताधारी एनडीए ने 125 सीट अब तक जीत ली हैं, जबकि विपक्षी महागठबंधन ने 110 सीट जीती हैं। निर्वाचन आयोग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक, बिहार में सत्ताधारी राजग में शामिल भाजपा ने 74 सीटों पर, जदयू ने 43 सीटों पर, विकासशील इंसान पार्टी ने 4 सीटों पर और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा ने 4 सीटों पर जीत दर्ज की है। वहीं, विपक्षी महागठबंधन में शामिल राजद ने 75 सीटों पर, कांग्रेस ने 19 सीटों पर, भाकपा माले ने 12 सीटों पर, भाकपा एवं माकपा ने दो-दो सीटों पर जीत दर्ज की है।

More from politicsMore posts in politics »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *