Press "Enter" to skip to content

say goodbye to your weight by pegan diet plan/

पीगन डाइट प्लान वीगन और पैलिओ डाइट के बेहतरीन के मेल से बना है.

पीगन डाइट प्लान वीगन और पैलिओ डाइट के बेहतरीन के मेल से बना है.

मोटापे से दुनिया में हर दूसरा इंसान परेशान है. इसे भगाने के लिए क्या-क्या जतन नहीं करते लोग, लेकिन फिर भी ये जाने का नाम नहीं लेता. अब इसे भगाने के लिए पीगन डाइट प्लान कॉन्सेप्ट में आया है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 21, 2021, 2:13 PM IST

मोटापे को कम करने और भगाने को लेकर बहुत कुछ कर चुके हैं, लेकिन ये जाने का नाम नहीं लेता तो अब पीगन डाइट प्लान (Pegan Diet Plan) ट्राई करें. यह डाइट प्लान आजकल ट्रेंड में है. यह आपका वजन ही कम नहीं करता बल्कि मोटापे से जुड़ी बीमारियों को दूर रखने में भी मदद करता है. लेकिन इसे फ़ॉलो करने से पहले इसके फायदे-नुकसान के बारे में भी जान लें. यहां हम इस प्लान से जुड़ी यही बातें आपको बताने जा रहे हैं.

क्या है पीगन डाइट प्लान

पीगन डाइट प्लान वीगन (Vegan) और पैलिओ (Paleo ) डाइट के बेहतरीन के मेल से बना है. पैलियो डाइट में जहां मांस और मछली शामिल है. वहीं वीगन में सब्जियां और पौधों का प्रोटीन.प्लांट्स बेस्ड इस डाइट में एनीमल फैट वाले फूड पर कंट्रोल होता या फिर उसे डाइट में शामिल ही नहीं किया जाता है.इसे क्लीवलैंड क्लिनिक सेंटर फॉर फंक्शनल मेडिसिन के डॉयरेक्टर डॉ. मार्क हाइमन ने ईजाद किया है. डॉ. हाइमन के मुताबिक, गैर-स्टार्च वाली सब्जियों, फलों और पौधों का प्रोटीन फोकस्ड पीगन डाइट से पूरी सेहत में सुधार होता है.

इसे भी पढ़ेंः क्‍या है इंटरमिटेंट फास्टिंग, जानें इस उपवास में क्या खाएं और क्या नहींक्या खाएं क्या न खाएं

डॉ. हाइमन की के मुताबिक इस डाइट प्लान में आपकी प्लेट में 75 फीसदी फल और सब्जियों और बाकी 25 फीसदी में बेहद कम मात्रा में एनिमल फैट होना चाहिए. मतलब 25 फीसद हिस्से में केवल आपकी हथेली में समा सकने लायक प्रोटीन रिच फूड यानी हेल्दी फैट जैसे मछली, सी, फूडस,नट्स. इसमें सबसे अधिक फोकस पौधों वाले फूड पर होता है तो ग्लूटन (Gluten) फ्री अनाज, दालें, सब्जियां, फल एवोकाडो और ऑलिव ऑयल जैसी चीजें आपके खाने में होनी चाहिए. इसमें डेयरी प्रोडेट्क्स से परहेज रहता है जैसे गाय का दूध, पनीर. इस डाइट प्लान में प्रोसेस्ड फूड खाने की भी मनाही है. शुगर और उससे बने सभी प्रोडेक्टस, रिफाइंड ऑयल भी इस डाइट प्लान का हिस्सा नहीं हैं.

पीगन डाइट के फायदेः 

इससे सेहतमंद रहने और लगातार वजन घटाने में मदद मिलती है.इससे शरीर के वजन, सूजन कम होती है तो इंसुलिन (Insulin) भी संतुलित रहता है. डायबिटीज से बचाता है ,ब्लड  शुगर लेवल को कंट्रोल में रखता है.  हृदय रोगों से भी बचाने में भी मदद करता है.

इसे भी पढ़ेंः सर्दियों में जरूर खाएं ड्रैगन फ्रूट, इम्यूनिटी होती है मजबूत

पीगन डाइट के नुकसान

इस डाइट प्लान को सेहतमंद रहने के लिए आप लंबे समय तक या ताउम्र फॉलो कर सकते हैं, लेकिन इसके नुकसान भी हैं मसलन  इसमें बहुत के मामले में आपको बहुत परहेज से रहना होता है. इसके अलावा खाने में अलग-अलग खाद्य पदार्थों के चुनना और मैनेज करना काफी वक्त लेता है और महंगा भी पड़ता है. विशिष्ट खाद्य समूहों पर प्रतिबंध लगाने से पोषक तत्वों की कमी का सामना भी करना पड़ सकता है.(Disclaimer:इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)




More from science & healthMore posts in science & health »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *